मेपकॉस्ट की लापरवाही से सूखे जड़ी-बूटी के एक लाख पौधे

अमित सोनी ॥ भोपाल
मध्यप्रदेश विज्ञान प्रौद्योगिकी विभाग की लापरवाही से टीशु कल्चरल लैब में अनमोल जड़ी बूटी के एक लाख पौधे सूख गए। विलुप्त जड़ी-बूटियों और जीवन रक्षक औषधि के पौधों के संरक्षण के लिए वर्ष 1995 में औबेदुल्लागंज में यह लैब खोली गई थी। लैब में अश्वगंधा, कपूर, शुगर, ब्रह्मी, रुद्राक्ष और शुगरकिन जैसे कई दुर्लभ पौधे थे जिन्हें किसान खरीदकर अपने घर या खेत में लगाते थे।
प्रो. टीएस मूर्ति विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के नाम से स्थापित इस लैब को मध्यप्रदेश विज्ञान प्रौद्योगिकी परिषद ने बजट और रिनोवेशन का हवाला देकर इसे एक साल पहले बंद कर दिया है और वहां का सामान मेपकॉस्ट में लाकर रख दिया है। वहां से जो पौधे मेपकॉस्ट लाए गए हैं, वे पूरी तरह से सूख गए हैं। जबकि शासन हर साल लैब सरंक्षण और संचालन के लिए करीब ढाई करोड़ रुपए बजट के रूप में विभाग को जारी करता है। लेकिन उस बजट का इस्तेमाल मेपकॉस्ट अन्य मदों में खर्च कर रहा है। एडवांस रिसर्च इस्ट्रूमेंटेशन फैसिलिटी में मेपकास्ट की तीन प्रयोगशालाएं आती हैं। बायोटेक्नोलॉजी लैब, गुणवत्ता आश्वासन प्रयोगशाला और प्लांट टिशू कल्चर प्रयोगशाला, जबकि परिषद ने शासन को सिर्फ दो प्रयोगशालाएं ही बताई हैं। इनमें टिशू कल्चर प्रयोगशाला का उल्लेख ही नहीं किया गया है।
किसानों के लिए संजीवनी थी ये लैब
जैव विविधता की दृष्टि से यह लैब किसानों के लिए बेहद महत्वपूर्ण थी। पिछले 15 सालों में रोजगार को लेकर यहां 50 से ज्यादा सफल ट्रेनिंग दी गई। वहीं दो हजार किसानों ने फसल संरक्षण संबंधी कार्यशालाओं में भाग लेकर अपनी फसलों को बर्बाद होने से बचाया। प्रयोगशाला के अलावा यहां करोड़ों की लागत से दो तालाब भी बनाए गए हैं, जो लैब बंद होने पर पूरी तरह बर्बाद हो गए हैं।
शिकायत हुई तो जांच करने भेज दी टीम
विभाग के कुछ कर्मचारियों ने बताया कि पांच महीने पहले लैब बंद की शिकायत जब मंत्री से की कई, तो प्रयोगशाला को शुरू करने के बजाए महानिदेशक ने उल्टा तीन वैज्ञानिकों की कमेटी गठित की। टीम को लैब आदर्श भवन में संचालित हो रही है या नहीं इसकी जांच करने के लिए भेज दिया। जांच के लिए कमेटी में जूनियर वैज्ञानिक को रखा गया था।


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें