MP : आदिवासी गर्ल्स हॉस्टल में नहाने के लिए दिया जाता है निरमा साबुन, मंत्री ने दिए जांच के आदेश

छात्राओं ने मंत्री को बताया कि स्कूल के टीचर फीस के नाम पर 600 रुपये से अधिक पैसा वसूल कर बच्चों को पढ़ा रहे हैं.

मध्य प्रदेश के मंत्री ने कहा कि हॉस्टल में बच्चियों का हक मारा जा रहा है, इस पर वे कड़ी कार्रवाई करेंगे

भोपाल : मध्य प्रदेश के डिंडौरी में मेहदवानी विकासखंड के उत्कृष्ठ विद्यालय में छात्रवास आश्रम प्रवेश उत्सव का कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश धुर्वेकी मौजूदगी में छात्रावासों में की जा रही धांधली की पोल खुल गई. छात्रावास में पढ़ने वाले बच्चों से हकीकत जानकर मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे खुद हैरत में पड़ गए.

छात्राओं ने मंत्री को बताया कि स्कूल के टीचर फीस के नाम पर 600 रुपये से अधिक पैसा वसूल कर बच्चों को पढ़ा रहे हैं. इतना ही नहीं हॉस्टल में रहने वाले बच्चों को नहाने के लिए कपड़े धोने वाला निरमा साबुन और शरीर पर लगाने को राई का तेल दिया जाता है.

यह सुनकर मंत्री के होश उड़ गए. उन्होंने मॉडल गर्ल्स हॉस्टल की अधीक्षिका बिंजिया मानिकपुरी को जमकर फटकार भी लगाई. ओमप्रकाश धुर्वे को मंच से ही कहना पड़ा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की भांजियों को नहाने के लिए निरमा साबुन और लगाने के लिए राई का तेल दे रही है. इतना ही नहीं एक महीने में भांजियों को सिर्फ एक रुपए वाला तीन शैंपू का पाउच दिया जाता है. इससे साफ पता चलता है कि हॉस्टल अधीक्षिका पैसे बचने के चक्कर मे भोले-भाले आदिवासी बच्चों का हक मारने पर उतारू है और शिक्षा विभाग के तमाम दावों की पोल खोलने के लिए काफी है.

मंत्री ने पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं. उन्होंने कहा कि दोषी लोगों को किसी भी कीमत में नहीं बख्शा जाएगा.


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें