प्रदेश में 1800 कंपनियों ने किया 60 हजार करोड़ का निवेश

सच संवाददाता ॥ भोपाल
इन्वेस्टर्स समिट में वादा कर विदेशी निवेशकों ने पल्ला झाड़ लिया है, लेकिन प्रदेश में प्राइवेट प्लेयर तेजी से निवेश कर रहे हैं। यह निवेश प्रदेश के बड़े शहरों में सिर्फ इंदौर में ज्यादा हो रहा है। औद्योगिक शहर इंदौर की प्रमुख कंपनियों ने 60 हजार करोड़ रुपए का निवेश बीते वर्ष में किया गया है।
उद्योग विभाग के आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश की प्रमुख 1800 कंपनियों ने विभिन्न सेक्टर में 60 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया है। इस निवेश से भविष्य में प्रदेश सरकार के खजाने में इजाफा होने के साथ ही रोजगार के नए अवसर बढऩे की उम्मीद है। वर्तमान में 1826 ईकाइयां ऐसी हैं जिनमें सबसे ज्यादा निवेश हो रहा है। अकेले पीथमपुर औद्योगिक क्षेत्र में 1155 कंपनियां हैं, जिनमें 28 हजार करोड़ से ज्यादा का निवेश हुआ है।
सुविधाओं के अभाव में 20 कंपनियों ने नहीं लगाई इंडस्ट्री
प्रदेश के आईटी पार्कों में विकास कार्य नहीं किए जाने के कारण 20 कंपनियों ने इंडस्ट्री लगाने से इनकार करते हुए सरकार को जमीन लौटा दी है। आईटी कंपनियों में भास्कर इलेक्ट्रिकल्स भोपाल, रक्षा इंफो सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड भोपाल, हुंका टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड भोपाल, मैट्रो सॉफ्ट न्यू दिल्ली, सेल्फ टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड इंदौर, ऑर्निस इन्फो प्राइवेट लिमिटेड भोपाल, अल्टफेर्ट प्राइवेट लिमिटेड कोलकाता, कम्पेक्ट इंडस्ट्री जबलपुर, डीएसवाईएस तेलांग वेब इन्फोटेक प्राइवेट लिमिटेड भोपाल, लिग्नाटेज सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड इंदौर, आईमिल्स इन्फोटेक भोपाल, इन्फोविंस सिस्टम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड इंदौर, जेम्सन इन्फोटेक भोपाल, एम-एप्स टेक लैब प्राइवेट लिमिटेड इंदौर, न्यूटेक फ्यूजन साइबर टच प्राइवेट लिमिटेड इंदौर, ओसवाल कम्प्यूटर एंड कंसल्टेंट प्राइवेट लिमिटेड इंदौर, स्नेह इन्फ्रास्टच्कर जबलपुर, स्प्राउट इन्वायरमेंटल सॉल्यूशन भोपाल, स्टेपअप इन्फोटेक भोपाल, क्रूमेन टेक्नोलॉजी इंदौर, इन्डमाइल टेक्नोलॉजी भोपाल और हैवन टैक्नो सिस्टम भोपाल शामिल हैं।
प्रदेश में सर्वाधिक निवेश पीथमपुर में ही होता है। हमारे क्षेत्र में 1115 यूनीटें हैं जिनमें 28 हजार करोड़ से ज्यादा का निवेश हुआ है। आने वाले समय में निवेश के आंकड़ों में और बढ़ोतरी होगी।
> गौतम कोठारी,
अध्यक्ष, पीथमपुर औद्योगिक एसोसिएशन
सरकार इंदौर क्षेत्र पर ज्यादा दे रही है। यही वजह है कि वहां प्रदेश के बाकी औद्योगिक क्षेत्रों से ज्यादा कंपनियां निवेश करती हैं।
> डॉ. प्रेम दुबे,
अध्यक्ष, जबलपुर चेंबर ऑफ कॉमर्स
हमारे यहां पिछले एक साल से निवेश नहीं आ रहा है।इसलिए ग्वालियर में निवेश धीमा पड़ गया है। इसकी बड़ी वजह सरकार ने जो आईटी पार्क बनाए हैं उनमें सड़क, बिजली, पानी की विधिवत सुविधाएं नहीं हैं।
> अरविंद अग्रवाल,
अध्यक्ष, चेंबर ऑफ कॉमर्स, ग्वालियर


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें