फर्जी मतदाताओं पर गरजी कांग्रेस पूछा- किसने जुड़वाए बोगस नाम

मुख्य प्रतिनिधि ॥ भोपाल
प्रदेश की मतदाता सूची में 24 लाख फर्जी मतदाताओं के नाम मिलने को कांग्रेस ने जहां अपनी बड़ी सफलता माना है। वहीं इतनी बड़ी संख्या में फर्जी वोटर्स मिलने पर सभी दिग्गजों ने मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं कि आखिर यह फर्जी नाम किसके इशारे पर जुड़वाए गए थे और इसके लिए दोषी कौन है। कांग्रेस मतदाता सूची की नए सिरे से जांच कर दोबारा चुनाव आयोग में पहुंचकर शिकायत करेगी। प्रदेश कांग्रेस ने मुंगावली व कोलारस उपचुनाव के समय फर्जी मतदाताओं का मामला उठाया था। इसमें कांग्रेस को सफलता भी मिली थी। इस मामले में लगातार शिकायतें करने वाली कांग्रेस को एक और सफलता मिली है। आयोग द्वारा जारी नए वोटर्स ड्राफ्ट में 24 लाख नाम काट दिए गए हैं।
नया ड्राफ्ट सामने आते ही प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ, चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य ङ्क्षसधिया, नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और वरिष्ठ अधिवक्ता व सांसद विवेक तन्खा खुलकर सामने आ गए हैं। सभी ने पार्टी के आरोप व शिकायतों को सही बताया है। साथ ही प्रदेश में अभी और भी फर्जी मतदाताओं के नाम सूची में शामिल होने की आशंका जाहिर की है। मुंगावली उपचुनाव के समय भारत निर्वाचन आयोग से शिकायत करते हुए कांग्रेस ने प्रदेश की मतदाता सूची में 60 लाख फर्जी नाम बताए थे। हालांकि चुनाव आयोग इस आरोप को नकारता रहा है और दिल्ली से जांच दल की रिपोर्ट आने के पहले ही प्रदेश के मुख्य निर्वाचन कार्यालय ने इस शिकायत को खारिज कर दिया था। मगर अब नए ड्राफ्ट में 24 लाख नाम कटने से कांग्रेस को एक बार फिर ताकत मिली है। जोश में आ गई है।
सभी नेताओं ने ट्वीटर के जरिए अपनी नाराजगी जताते हुए प्रदेश की मतदाता सूची में अभी और भी नाम फर्जी होने की शिकायत करने के लिए दोबारा निर्वाचन आयोग में पहुंचने की तैयारी शुरू कर दी है।


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें