स्पेन दंपति का आरोप झूठा है शिव-राज भोपाल के शिशुगृह से ली बच्ची छोड़ी, केन्द्रीय मंत्री मेनका गांधी ने जताया दुख

सच प्रतिनिधि ॥ भोपाल
स्पेन के दंपति द्वारा मध्यप्रदेश से गोद ली गई बच्ची को स्पेन में छोड़ दिया और शिवराज सरकार पर आरोप लगाए कि उन्हें झूठ बोलकर ये बच्ची गोद दी गई थी। केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने ट्वीट कर मामले पर दुख जताते हुए बच्ची को भारत लाकर उसके पुर्नावास करने की बात कही है।
मामला भोपाल के शिशुगृह किलकारी से जुड़ा हुआ है। बीते दिनों दो लड़कियों को इटली और स्पेन की दंपति ने गोद लिया था। स्पेन की दंपति ने बच्ची को इस वजह से छोड़ दिया, क्योंकि उस बच्ची की उम्र ज्यादा है। स्पेन दंपति की शिकायत है कि गोद लेते समय बच्ची की उम्र सात वर्ष बताई गई थी, लेकिन वह 13 वर्ष से भी ज्यादा की है। उन्होंने बताया कि हम कम उम्र की बच्ची इसलिए गोद लेना चाहते थे ताकि उसे हमारी भाषा और तौर-तरीके आसानी से सिखा सकें। बच्ची की उम्र ज्यादा है इसलिए उसे यह सब सीखने में परेशानी आ रही है।
लड़की अब दंपति के साथ नहीं है। उन्होंने उसे मैड्रिड के आश्रय गृह में छोड़ दिया है। इस मामले में केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने संज्ञान लिया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि ये घटना दुखद है। गोद दी गई बच्ची को स्पेन में परिवार द्वारा त्याग दिया गया है, मैंने स्पेन में हमारे राजदूत से बात की है। जल्द ही बच्ची को भारत वापस लाकर उसका पुर्नवास किया जाएगा।
इस मामले में निरीक्षण के दौरान कमियां पाए जाने पर बाल आयोग ने महिला एवं बाल विकास विभाग के जिम्मेदारों से शिकायत की थी, लेकिन उन्होंने कोई एक्शन नहीं लिया। वहीं विभाग की मंत्री अर्चना चिटनीस ने भी मामले में चुप्पी साध ली है। बता दें कि बच्ची को उड़ान नामक एक संस्था से गोद लिया गया था। दंपति ने सेंट्रल एडोप्शन रेस्क्यू एजेंसी से शिकायत की थी कि कागजों में बच्ची की उम्र सात वर्ष बताई गई थी, जो सही नहीं है, हमारे साथ धोखा हुआ है, दंपति ने बच्ची की उम्र की जांच करवाई है। मेडिकल जांच में पता चला कि वह बताई गई उम्र से छ: वर्ष बड़ी है।


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें