एट्रोसिटी एक्ट में बदलाव कराने राहुल, मोदी तक पहुंचेगे 17 राजपूत संगठन

मुंह पर काली पट्टी, हांथ में हथकड़ी लगाकर किया विरोध
सरकार दिलाए सभी वर्गों को मौलिक अधिकार: भदौरिया
सच प्रतिनिधि ॥ भोपाल
मध्य प्रदेश सहित अन्य राज्यों में एट्रोसिटी एक्ट में बदलाव करने के लिए विरोध किया जा रहा है। आगामी दिनों में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी भोपाल आने वाले है। एट्रोसिटी एक्ट में बदलाव कराने के लिए प्रदेश के 17 राजपूत समाज के संगठन एकजुट हो गए है। राजपूत संगठन पुरजोर तैयारी कर रहा है कि इन दोनों की नेताओं से मुलाकात कर उन्हें इस एक्ट में बदलाव करने के लिए बात रखेगे। इसके साथ ही उन्होंने लोकतांत्रिक व्यवस्था के अनुरूप जा कर मुलाकात करने का प्रयास करेंगे। वहीं आज राजपूत समाज संयुक्त मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने मुंह पर काली पट्टी लगाकर, हाथी में हथकड़ी पहनकर एट्रोसिटी एक्ट का विरोध किया है। इस प्रकार का अनूठे विरोध कर उन्होंने समझाया है कि इस एक्ट के लागू होने के बाद सामान्य वर्गों के लिए ऐसी ही स्थिति हो रही है। सरकार से मांग करते हुए उन्होने कहा कि सरकार इस एक्ट को अगर वापस नहीं लेती है तो वर्ग के मौलिक अधिकारों का हनन होगा।
राजपूत समाज संयुक्त मोर्चा ने आज पत्रकार वार्ता करते हुए सरकार के द्वारा पास किए गए एट्रोसिटी एक्ट का विरोध किया है। राजपूत समाज के अध्यक्ष विनय भदौरिया ने कहा कि एक्ट को लेकर जो संसद में संशोधित बिल पास किया है। इस बिल में दिए गए नियम के प्रावधनों के द्वारा संविधान में दी गई व्यवस्था जिसमें व्यक्ति के मौलिक अधिकारों का हनन होगा।
इस बिल से समाज के अंदर असंतोष पैदा हो रहा है। जिससे आगे चलकर भारत की अखंडता को भी खतरा हो सकता है। इस एक्ट की मानें तो पीडि़त व्यक्ति अगर किसी ऐसे व्यक्ति के खिलाफ प्राथमिक रिपोर्ट दर्ज होती है और आरोपित पक्ष सामान्य वर्ग से होता है तो उसकी तुरंत गिरफ्तारी की जाएगी। इसके साथ ही एक्ट के तहत अग्रिम जमानत का प्रावधान भी समाप्त कर दिया जाएगा। भदौरिया ने कहा कि सरकार से समाज मांग करता है कि सरकार संशोधित बिल में किसी एक विशेष वर्ग के लिए ऐसा नियम ना बनाए। जिससे दूसरे वर्ग के अधिकारों का हनन हो। मोदी सरकार द्वारा एट्रोसिटी एक्ट में जोड़ी गई धाराओं को हटाया जाए।


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें