Jet Airways के लिए खुशखबरी, मुकेश अंबानी कर सकते हैं कंपनी की नैया पार

जेट एयरवेज का परिचालन पूरी तरह से बंद हो चुका है. कंपनी को तत्काल 1000 करोड़ से ज्यादा की जरूरत, जिसे देने के लिए बैंक तैयार नहीं हैं.

मुकेश अंबानी एतिहाद एयरवेज के जरिए जेट में हिस्सेदारी खरीदेंगे. (फाइल)

नई दिल्ली: जेट एयरवेज (Jet Airways) का परिचालन बंद है. कंपनी को तुरंत हजारों करोड़ की जरूरत है, लेकिन बैंकों ने तत्काल राहत देने से मना कर दिया है. एयरलाइन को दोबारा शुरू करने की कोशिशें जारी हैं. तमाम बुरी खबरों के बीच Jet Airways के लिए एक अच्छी खबर आई है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, देश के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानीजेट में हिस्सेदारी खरीदना चाहते हैं. हालांकि, उनकी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ने जेट को खरीदने के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EoI) नहीं जमा किया है.

रिपोर्ट के मुताबिक, एतिहाद एयरवेज (Etihad Airways) के जरिए जेट में हिस्सेदारी खरीदने के लिए इच्छुक हैं.  वर्तमान में एतिहाद की हिस्सेदारी 24 फीसदी है. कंपनी में जेट को खरीदने के लिए EoI भी जमा किया है. माना जा रहा है कि मुकेश अंबानी इस रास्ते से डूबते जेट को उबारने का काम करेंगे और एतिहाद की हिस्सेदारी जेट एयरवेज में 49 फीसदी हो जाएगी.

एविएशन फील्ड में FDI के नियमों की बात करें तो 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने में एतिहाद को किसी परमिशन की जरूरत नहीं होगी. इससे ज्यादा हिस्सेदारी खरीदने के लिए सरकार से अनुमति की जरूरत होगी.

Reliance Industries chairman Mukesh Ambani may buy stake in Jet Airways

इस बीच जेट के कर्मचारी वित्त मंत्री अरुण से मिले. वित्त मंत्री ने मदद का भरोसा दिया. कर्मचारियों ने कहा कि वे कंपनी के साथ इस कठिन समय में खड़े हैं, लेकिन उन्हें फिलहाल कम से कम एक महीने की सैलरी चाहिए. उनपर कर्ज का बोझ बढ़ रहा है, अब तो घर चलने में भी परेशानी हो रही है, जिसकी वजह से कम से कम एक महीने की सैलरी उन्हें चाहिए. सभी कर्मचारियों को एक महीने की सैलरी के लिए 170 करोड़ रुपये की जरूरत होगी.


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें