क्रिटिकल मतदान केन्द्रों पर विशेष ध्यान दें पुलिस अधिकारी : राव

प्रशासनिक संवाददाता ॥ भोपाल
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कान्ता राव ने टीकमगढ़, दमोह और खजुराहो संसदीय क्षेत्र में आने वाले विधानसभा क्षेत्रों में लोकसभा चुपाव की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को उत्तरप्रदेश की सीमा से लगे मतदान केन्द्रों, क्रिटिकल और संवेदनशील मतदान केन्द्रों पर विशेष ध्यान देने को कहा। उन्होंने कहा कि इन मतदान केन्द्रों पर प्रत्येक गतिविधि की वीडियोग्राफी करायें और सीसीटीव्ही कैमरों से सतत् निगरानी करें। निर्वाचन में बाधा उत्पन्न करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही करें।
काताराव ने क्षेत्र में अत्याधिक गर्मी की स्थिति को देखते हुए मतदान केन्द्रों पर मतदाताओं के लिये छाया और पेयजल की समुचित व्यवस्था करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इस व्यवस्था के बारे में क्षेत्र के मतदाताओं को भी जानकारी दें जिससे अधिक से अधिक मतदाता अपने मताधिकार के उपयोग के लिये प्रेरित हों। राव ने इन क्षेत्रों में अवैध शराब की बिक्री और परिवहन पर अंकुश लगाने के लिये भी कहा। बैठक में संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अभिजीत अग्रवाल, उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी संजीव जैन, पुलिस महानिरीक्षक योगेश चौधरी और संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
चौथे चरण में 11 हजार 202 सेवा मतदाता
प्रदेश में चौथे चरण की 8 लोकसभा सीटों पर 11 हजार 202 सेवा मतदाता हैं। इनमें से संसदीय क्षेत्र देवास में 3 हजार 43, उज्जैन में एक हजार 586, मंदसौर में 2 हजार 629, रतलाम में 499, धार में एक हजार 303, इंदौर में एक हजार 104, खरगोन में 373 एवं खण्डवा में 665 सेवा मतदाता हैं। इन क्षेत्रों में उम्मीदवारों की सूची फाईनल होने के बाद सेवा मतदाताओं को इलेक्ट्रानिक पोस्टल बैलेट जारी किये जाएंगे। इन संसदीय क्षेत्रों के विधानसभा क्षेत्रों में निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों द्वारा सेवा मतदाताओं की नामावली का अंतिम डाटा अपलोड कर दिया गया है।


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें