सीआईएसएफ की तर्ज पर बनेगा एसआईएसएफ का कैडर

प्रशासनिक संवाददाता ॥ भोपाल
केन्द्र की सेंट्रल इंडस्ट्रीज सिक्योरिटी फोर्स (सीआईएसएफ) के पैटर्न पर राज्य में स्टेट इंडस्ट्रीज सिक्योरिटी फोर्स (एसआईएसएफ) का कैडर बनाया जाएगा। स्वयं के जवान भर्ती किए जाएंगे, तो अधिकारी अन्य सुरक्षा बलों से प्रतिनियुक्ति पर लिए जाएंगे। एसआईएसएफ की सिंगरौली और रीवा में जल्द ही दो बटालियन खोली जाना प्रस्तावित है। इनके लिए एसएएफ से निरीक्षक से लेकर आरक्षक स्तर के 1038 अधिकारी-कर्मचारी प्रतिनियुक्ति पर लिए जाने की प्रक्रिया शुरू की गई है। प्रतिनियुक्ति पर आने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को औद्योगिक संस्थानों में तैनात किया जाएगा।
सूत्रों के मुताबिक एसआईएसएफ की सिंगरौली और रीवा में बटालियन मुख्यालय के भवन बन चुके हैं। यहां प्रशासकीय भवन से लेकर हॉस्टल, खेल मैदान, परेड मैदान आदि तैयार किए गए हैं। एसएएफ से मिलने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को इन बटालियनों में शिफ्ट किया जाएगा। दोनों बटालियन में कमांडेंट पदस्थ किए जाएंगे। उनके अधीनस्थ अधिकारी तथा कर्मचारियों को औद्योगिक संस्थानों की सुरक्षा में तैनात किया जाएगा। जिन भी संस्थानों द्वारा सुरक्षा की मांग की जाएगी, मुख्यालय से उनके प्रस्ताव संबंधित बटालियन को भेजे जाएंगे। बटालियन से अधिकारी-कर्मचारियों की तैनाती की जाएगी। उनकी पोस्टिंग, वेतन-भत्ते की राशि लेने आदि की प्रक्रिया बटालियन कमांडेंट द्वारा की जाएगी। सूत्रों के मुताबिक इस माह के अंत तक बटालियनों का संचालन शुरू कर दिया जाएगा। एसएएफ से स्टाफ मिलने के बाद उनकी बटालियनों में तैनाती की जाएगी।
भोपाल, इंदौर को भी मिलेगी बटालियन
सिंगरौली, रीवा के बाद भोपाल और इंदौर में दो अन्य बटालियन खोले जाने की योजना है। इनके लिए जिला प्रशासन से जमीन ली जाएगी, जहां प्रशासकीय भवन, हॉस्टल, परेड ग्राउंड, खेल मैदान से लेकर अन्य निर्माण कार्य कराए जाएंगे। सूत्रों के मुताबिक महाकौशल, विंध्य, बुंदेलखंड क्षेत्र के औद्योगिक संस्थानों में जवानों की तैनाती सिंगरौली और रीवा बटालियन से की जाएगी। इसी तरह इंदौर और भोपाल क्षेत्र में आने वाले औद्योगिक संस्थानों की सुरक्षा व्यवस्था में इन बटालियनों से जवान तैनात किए जाएंगे। भोपाल में रातीबड़ क्षेत्र में जमीन की तलाश जारी है। इसी तरह इंदौर के आसपास औद्योगिक क्षेत्र में बटालियन के लिए जमीन तलाशी जा रही है। बटालियन खोलने की कार्ययोजना बनाई जा रही है।
डीएसपी भी लिए जाएंगे प्रतिनियुक्ति पर
फिलहाल एसएएफ से प्रधान आरक्षक, आरक्षकों को प्रतिनियुक्ति पर लेकर उनको सुरक्षा व्यवस्था में तैनात किया जा रहा है। एसएएफ से वर्तमान में 1038 मिलने वाले अधिकारी-कर्मचारियों में 9 निरीक्षक, 20 उप निरीक्षक (पीसी), 14 एएसआई, 112 प्रधान आरक्षक तथा 868 आरक्षक शामिल हैं। इनके बाद एसआईएसएफ ने भविष्य में डीएसपी रैंक के अधिकारियों को प्रतिनियुक्ति पर लेने का प्रस्ताव तैयार किया है। बटालियन का संचालन शुरू होने के बाद कमांडेंट के साथ ही डिप्टी कमांडेंट की तैनाती की जाएगी। साथ ही बड़े औद्योगिक संस्थानों में जवानों की तैनाती के बाद उनकी रवानगी, आमद आदि की जिम्मेदारी का काम निरीक्षकों को सौंपा जाएगा। कमांडेंट एएसपी रैंक के अफसरों को बनाया जा सकता है।


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें