शिव-राज में हुई अनियमितताओं से सतर्क नाथ सरकार स्कूलों में नहीं मिलेगी यूनिफॉर्म, बटेंगे चेक

उमा प्रजापति ॥ भोपाल।
मध्यप्रदेश के सरकार स्कूलों में पढऩे वाले छात्र-छात्राओं को मिलने वाली यूनिफॉर्म की व्यवस्था में सरकार ने एक बार फिर बदलाव किया है। विद्यार्थियों को यूनिफॉर्म की जगह चेक दिए जाएंगे। सरकार ने यह निर्णय पिछले वर्ष यूनिफॉर्म वितरण में हुई देर और अनियमितताओं को देखते हुए लिया है। साथ ही विभाग के अफसरों को निर्देश दिए गए हैं, कि अगले साल से छात्र-छात्राओं को फिर से यूनिफॉर्म ही दी जाए, लेकिन इस पर अभी से काम शुरू किया जाए। ताकि विद्यार्थियों को यूनिफॉर्म के लिए साल भर इंतजार न करना पड़े।
दरअसल पिछले 10 वर्षों से विद्यार्थियों को यूनिफॉर्म खरीदने के लिए चेक ही वितरित किए जाते थे। पिछले वर्ष विद्यार्थियों को चेक की जगह यूनिफॉर्म देने का निर्णय तत्कालीन शिवराज सरकार ने लिया था। यूनिफॉर्म सिलाई का काम स्वयं सेवी संस्थाओं के माध्यम विधवा और असहाय महिलाओं से कराया जाना तय किया किया गया था। इसकी जिम्मेदारी समाज कल्याण विभाग को दी गई थी, लेकिन स्थिति यह रही कि छह माह तो स्वयंसेवी (शेष पेज 5 पर)
स्कूलों में नहीं मिलेगी…
संस्थाओं को चयन करने में निकल गए। इस दौरान संस्थाओं को ठेका देने में फर्जीवाड़े के मामले भी सामने आए। तमाम अव्यवस्थाओं के बाद जनवरी-फरवरी में बच्चों को यूनिफॉर्म मिल सकी थी। सत्र के अंत में यूनिफॉर्म मिलने के कारण एक तरह से सरकार के करोड़ों रुपए की यूनिफॉर्म बच्चों के लिए अनुपयोगी ही रही।
तीसरी बार हुआ बदलाव
सन् 2010 तक छात्र-छात्राओं को सिली हुई यूनिफॉर्म दी जाती थी। इसमें घोटाले के बाद बच्चों को यूनिफॉर्म की जगह 400 रुपए चेक के माध्यम से देने का फैसला लिया गया। चेक की जगह यूनिफॉर्म देने के पीछे माननीयों का तर्क था कि बच्चों को यूनिफॉर्म के लिए दी जाने वाली राशि को अभिभावक या तो शराब में उड़ा देते हैं या फिर कई लोग घर खर्च में लगा देते हैं। ऐसे में विद्यार्थी पुराने यूनिफार्म में ही स्कूल आते हैं, वहीं प्राचार्यों के अनुसार कुछ बच्चे तो चेक लेने के बाद स्कूल आना ही छोड़ देते हैं।
———————-
समाज कल्याण विभाग की नहीं तैयारी
सरकारी सहित सीबीएसई और एमपीबोर्ड के प्राइवेट स्कूलों में नया शिक्षण सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है। तैयारियों को लेकर शनिवार को मंत्रालय में समाज कल्याण विभाग और स्कूल शिक्षा विभाग की बैठक आयोजित की गई। बैठक में बच्चों की यूनिफॉर्म की तैयारियों को लेकर समाज कल्याण विभाग से जानकारी मांगी गई, जिस पर तैयारी न होने की बात सामने आई। इस पर शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने यूनिफॉर्म की जगह चेक देने के निर्देश अधिकारियों को दिए, साथ ही समाज कल्याण विभाग को अगले साल की तैयारी अभी से करने को कहा गया।


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें