मंत्रियों को सीएम कमल नाथ सिखाएंगे कंस्ट्रक्टिव एटीट्यूट

प्रशासनिक संवाददाता ॥ भोपाल
वन मंत्री उमंग सिंघार द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर पर्दे के पीछे से कमल नाथ सरकार चलाने के आरोप लगाने संबंधी घटनाक्रम और इसके मीडिया में आने से खासे नाराज मुख्यमंत्री कमल नाथ अगली कैबिनेट बैठक में इस बारे में मंत्रियों से खुलकर बात करेंगे। वे मंत्रियों को अनुशासन में रहने के साथ-साथ अपने काम पर फोकस करने की हिदायत देंगे। हालांकि अब तक कैबिनेट बैठक की तारीख तय नहीं है लेकिन अनौपचारिक बैठक के लिए एजेंडा लगभग हो चुका है।
सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री कमल नाथ ने अगले सप्ताह कैबिनेट बुलाने के निर्देश दिए हैं। एक-दो दिन में बैठक की तारीख तय होगी। इस बैठक मेें मुख्यमंत्री कमल नाथ अपने मंत्रियों को स्पष्ट तौर पर कहेंगे वे अपने विभागों के काम पर फोकस करें। सूत्रों के अनुसार वन मंत्री उमंग सिंघार से कल हुई चर्चा में भी मुख्यमंत्री ने उन्हें स्पष्ट तौर पर कहा कि चुनाव तक राजनीति ठीक होती है। अब जब हम सरकार में है तो हमें काम पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने सिंघार को हिदायत दी कि वे राजनीतिक बयानबाजी करने की बजाए अपने विभाग और सरकार के कामकाज को लेकर मीडिया और आमजन से बात करें ताकि सरकार के कामों का प्रचार-प्रसार हो सके और लोगों को इनका लाभ मिले। बताया जाता है कि सीएम कमल नाथ ने अपना उदाहरण देते हुए उमंग को सीख दी कि वे किस तरह राजनीति से दूर रहकर अपने काम पर ध्यान दे रहें। इसी तरह का काम उन्हें भी करना होगा। सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री यही हिदायत अपने सभी मंत्रियों को देना चाहते हैं। कैबिनेट की बैठक में मुख्यमंत्री अपने सभी मंत्रिपरिषद के सहयोगियों से कहेेंगे वे अपने विभाग में सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश करें ताकि जनता की उम्मीदों पर खरा उतरा जा सके।
बारिश से जर्जर सड़कों की 30 नवंबर तक होगी मरम्मत
प्रदेश के अधिकांश शहरों और कस्बों में भारी बारिश से जर्जर हुई सड़कों की मरम्मत को सरकार ने प्राथमिकता वाले कामों में शामिल किया है। मुख्य सचिव एसआर मोहंती ने कल निर्माण कार्य से जुड़े विभागों के प्रमुख सचिवों के साथ बैठक कर 30 नवंबर तक सभी जर्जर सड़कों की मरम्मत करने के निर्देश दिए। मुख्य सचिव ने कहा कि सड़कों की मरम्मत का कार्य 15 से 20 सितम्बर के बीच आवश्यक रूप से किया जाए। संबंधित विभाग 15 सितम्बर से मरम्मत का कार्य शुरू करने के लिए अभी से प्रक्रिया शुरू करे। बैठक में इस संबंध में मुख्य रूप से लोक निर्माण, पंचायत एवं ग्रामीण विकास और नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग शामिल हुए।
मुख्य सचिव स्वयं करेंगे समीक्षा
मुख्य सचिव ने कहा कि क्षतिग्रस्त सड़कों के मरम्मत कार्य की शुरूआत और निर्धारित तिथि तक पूर्णता को सुनिश्चित करने के लिए समय-समय पर औचक निरीक्षण किया जायेगा। मुख्य सचिव स्वयं भी समय-समय पर इसकी समीक्षा करेंगे। बैठक में प्रमुख सचिव लोक निर्माण मलय श्रीवास्तव, सचिव ग्रामीण विकास उमाकांत उमराव, प्रमुख सचिव वित्त मनोज गोविल, आयुक्त नगरीय प्रशासन पी. नरहरि, मुख्य अभियंता लोक निर्माण आर.के. मेहरा, मुख्य अभियंता नगरीय प्रशासन प्रभाकांत कटारे और मुख्य अभियंता ग्रामीण विकास उपस्थित थे।
विवाद से बेफिक्र सीएम अपने काम में रहे व्यस्त
उमंग-दिग्विजय विवाद से बेफिक्र मुख्यमंत्री कमल नाथ अपने काम में व्यस्त रहे। उन्होंने आज आईटीसी के कंपनी के चेयरमेन संजीव पुरी से प्रदेश में निवेश को लेकर लंबी चर्चा की। आईटीसी ने प्रदेश में 800 करोड़ का अगरबत्ती काड़ी बनाने का प्लांट लगाने के साथ-साथ फूड प्रोसेसिंग सहित अन्य क्षेत्रों में निवेश को लेकर आज अपना विस्तृत प्रजेंटेशन सीएम के सामने दिया। मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कंपनी से कहा कि वे जल्द से जल्द अपने प्रोजेक्ट को जमीन पर उतारें। इससे पहले आईटीसी कंपनी के अधिकारी 29 अगस्त को भी सीएम से मिले थे। कंपनी के चेयरमेन संजीव पूरी ने अगरबत्ती काड़ी प्लांट के साथ-साथ औषधीय फसलों के लिए 50 हजार मीट्रिक टन क्षमता का डिहाईड्रेशन प्लांट लगाने पर चर्चा की थी।


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें