लांच हुआ पहला वैक्सीनेशन क्लिनिक, आपके घर आकर नवजातों को लगाएगा टीके

कैसा हो अगर नवजातों को टीके लगाने अस्पताल जाने की बजाए खुद क्लीनिक आपके घर आ जाए? सुनने में सपना सा लगे लेकिन अब ये बात सच होने जा रही है. IIT हैदराबाद ने पहली बार एक ऐसा क्लिनिक तैयार किया है जो घर, स्कूल, कॉलेज और दफ्तरों में जाकर नवजातों शिशओं का टीकाकरण करेगा. वैक्सीनेशन ऑन व्हील्स (Vaccination on Wheels) नाम के इस प्रोजेक्ट की शुरुआत पुणे से हो रही है.

कैसे पहुंचेगा क्लिनिक घर तक
IIT हैदराबाद में सेंटर फॉर हेल्थकेयर ऑट्रप्योनैरशिप के जगदीश पटेल के अनुसार इस नए प्रयोग के लिए बिल एंड मेलिंडा गेट्स ने अनुदान दिया है. वैक्सीनेशन ऑन व्हील्स दरअसल एक वाहन में तैयार क्लिनिक है जिसमें बच्चों को लगने वाले टीके मौजूद होंगे. इस चलते-फिरते क्लिनिक को रिहायशी इलाकों में भेजा जाएगा जहां टीकाकरण की दर कम है. इसी तरह दूर-दराज के इलाकों में मौजूद स्कूलों और कॉलेजों में भी इस क्लिनिक को बड़े आसानी से पहुंचाया जा सकेगा. कामकाजी महिलाओं के लिए दफ्तरों तक में यह क्लिनिक पहुंच के टीका दिया जा सकता है.

डॉ. जगदीश पटेल अपने प्रोजेक्ट के बारे में बताते हुए…

15 दिसंबर से शुरु होगा पुणे में शुरुआत
इस नए चलते-फिरते क्लिनिक की शुरुआत पुणे से की जा रही है. IIT हैदराबाद स्थानीय नगर निगम के साथ मिलकर नया वैक्सीनेशन क्लिनिक चलाएगी. एक बार इसका सफल परीक्षण हो जाने के बाद इसे पूरे देश में लागू करने की योजना है.

बेहद किफायती है टीकाकरण का यह तरीका
एक अन्य जानकार का कहना है कि नया वैक्सीनेशन क्लिनिक टीकाकरण जागरुकता का काम भी कर सकता है. साथ ही निम्न आय वर्ग के इलाको में, जहां से स्वास्थ्य केंद्र दूर हों, पहुंच पाना इससे संभव है. कुल मिलाकर किसी रिहायशी इलाके में एक नया क्लिनिक खोलने से कहीं ज्यादा किफायती है नया मोबाइल क्लिनिक.


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें