बगदाद: 3 रॉकेट हमले से दहल गया अमेरिकी दूतावास, ईरान पर घूमी शक की सुई

बगदाद: इराक की राजधानी बगदाद स्थित अमेरिकी दूतावास के नजदीक रॉकेट दागे गए हैं. सुरक्षाकर्मियों का कहना है कि बेहद सुरक्षित इलाके में स्थित अमेरिकी दूतावास के नजदीक तीन रॉकेट दागे गए हैं. हालांकि इसमें कोई हताहत नहीं हुआ है. घटना के बाद पूरे इलाके में सायरन की आवाज गूंजने लगा. अमेरिका ने इस तरह के हमलों के लिए ईरान को जिम्मेदार ठहराया है. हालांकि ईरान ने इसकी कभी भी जिम्मेदारी नहीं ली है.

मालूम हो कि मौजूदा वक्त में ईरान और अमेरिका के रिश्ते तल्ख हैं. अमेरिका ने ईरानी कमांडर की हत्या कर दी तो जवाब में ईरान अमेरिकी सैन्य ठिकाने पर मिसाइल से हमला कर चुका है. इराक में 8 जनवरी को दो अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर हुए ईरानी मिसाइल हमले में 11 अमेरिकी सैनिकों के घायल होने का दावा किया गया था. हालांकि अमेरिका ने इसे नकार दिया था. अमेरिकी केंद्रीय कमान के प्रवक्ता कैप्टन बिल अर्बन के हवाले से बताया था, ‘अल असद हवाईअड्डे पर 8 जनवरी को हुए ईरानी हमले में भले ही कोई अमेरिकी सैनिक नहीं मारा गया था, लेकिन कई लोगों के मस्तिष्काघात के लक्षणों का इलाज किया गया और अभी भी उनकी निगरानी की जा रही है.’

ईरान ने 8 जनवरी को ऐन अल असद और इरबिल में अमेरिकी सेना और गठबंधन सैनिकों की तैनाती वाले दो इराकी सैन्य ठिकानों पर सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइलें दागी थी. 3 जनवरी को बगदाद हवाईअड्डे के पास अमेरिकी ड्रोन हमले में ईरानी मेजर कासिम सुलेमानी के मारे जाने के बाद ईरान का यह जवाबी कार्रवाई था. हमले के बाद पेंटागन ने कहा था कि किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है.

अर्बन ने कहा कि ऐहतियात के तौर पर हमले के बाद कुछ सैनिकों की मस्तिष्क की जांच की गई और परिणामस्वरूप लक्षण पाए गए. सिन्हुआ ने सीएनएन की रिपोर्ट के हवाले से कहा कि आठ सैनिकों को जर्मनी भेजा गया और तीनों को आगे की जांच के लिए कुवैत भेज दिया गया. वर्तमान में, आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) के खिलाफ लड़ाई में देश की सेनाओं का सहयोग करने के लिए 5,000 से अधिक अमेरिकी सैनिक इराक में तैनात हैं.

अमेरिकी हमले में ईरानी कमांडर की मौत
यहां बता दें कि अमेरिकी ड्रोन हमले में ईरानी कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत हो गई है. ईरान की न्यायपालिका के प्रवक्ता का कहना है कि ईरानी कमांडर कासिम सुलेमानी की हत्या के लिए ईरान, अमेरिकी सेना और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ मुकदमा दायर करेगा. ईरान की न्यायपालिका के प्रवक्ता गुलाम हुसैन इस्माइली ने बुधवार को कहा, ‘हम ईरान, इराक और हेग कोर्ट (इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस) में अमेरिकी सेना और ट्रंप के खिलाफ मुकदमा दायर करने का इरादा रखते हैं.’


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें