विधायक के काफिले पर हुई फायरिंग मामले में एक हमलावर गिरफ्तार, पुलिस ने किया ये बड़ा खुलासा

नई दिल्ली: 8 फरवरी को हुए दिल्ली विधानसभा चुनावों का परिणाम 11 फरवरी को जारी कर दिया गया है. जिसके तुरंत ही बाद महरौली विधानसभा से विजयी हुए विधायक नरेश यादव के काफिले पर दो हमलावरो ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी. इस अचानक हुई फायरिंग में विधायक के एक समर्थक की मौत और एक समर्थक घायल हो गया. इस मामले में दिल्ली पुलिस ने जानकारी दी कि फरार दोनो आरोपियों में से एक आरोपी को पुलिस ने पकड़ लिया है. ये पूरा मामला आपसी रंजीश का बताया जा रहा है.

दिल्ली पुलिस ने साफ किया है कि इस मामले में विधायक को निशाना नही बनाया गया था. हमलावर ने गाड़ी के बिल्कुल पास आकर अशोक मान को ही टारगेट किया है. अशोक मान और हमलावर के परिवार के बीच मे पुरानी रंजिश का मामला सामने आया है. फिलहाल पुलिस हमलावरों और मृतक दोनों के क्रिमिनल रिकॉर्ड खंगाल रही है. आरोपियों के नाम कालू और देव बताए जा रहे हैं.

घटना मंगलवार रात 10:30 बजे की है जब महरौली विधानसभा से विजयी हुए विधायक नरेश यादव अपने समर्थकों के साथ कारो के काफिले में किशनगंढ गांव के मंदिर से दर्शन कर के लौट रहे थे. उसी दौरान दो हमलावरों ने नरेश यादव की कार पर हमला कर दिया. नरेश यादव एक ओपन कार में थे और उनके साथ उनके समर्थक भी थे. हमलावरों की गोली नरेश के दो समर्थकों को लगी. घायल समर्थकों को अस्तपताल ले जाया गया जहां अशोक मान नाम के समर्थक की मौत हो गई और दूसरा हरेंद्र घायल हो गया.

हमले के दौरान विधायक भी उसी कार में सवार थे जिसको टारगेट कर के गोलियां चलाई गई थी. विधायक नरेश यादव ने बताया कि वो अपनी जीत के बाद काउंटिंग सेंटर से सर्टिफिकेट लेकर धार्मिक स्थलों पर गए थे और रात 10 बजे किशनगढ़ गांव के मंदिर में आये थे. नरेश यादव ने बताया कि उनकी किसी से कोई दुश्नमनी नही है और न ही उन्हें चुनावों के दौरान कोई धमकी मिली थी.


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें