Delhi Violence: अब तक 17 लोगों की मौत, हाईकोर्ट के जज के घर हुई देर रात सुनवाई

नई दिल्ली: उत्तर पूर्वी दिल्ली में नागरिकता कानून (CAA) को लेकर फैली हिंसा में अब तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 180 से ज्यादा लोग घायल हो चुके हैं. सोमवार से शुरू हुआ उपद्रवियों का तांडव मंगलवार को भी जारी रहा. ताजा अपडेट ये है कि जाफराबाद से लेकर मौजपुर और इसके आसपास के अन्य इलाकों में बेहद कड़ी सुरक्षा और कर्फ्यू लगा हुआ है. दिल्ली पुलिस हर गली मोहल्ले में जाकर गश्त कर रही है.

इसके अलावा पूर्वी दिल्ली में हिंसा मामले पर आधी रात में 12.30 बजे दिल्ली हाईकोर्ट के जज एस मुरली धर और अनूप भमभानी के घर सुनवाई हुई, जिसमें हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को आदेश दिया कि वह मुस्तफ़ाबाद के एक नर्सिंग होम में भर्ती घायलों को पर्याप्त इलाज के लिए बड़े सरकारी जीटीबी अस्पताल पहुंचाने के लिए सुरक्षित रास्ता मुहैया कराए.

कोर्ट ने पुलिस को स्टेट्स रिपोर्ट दोपहर सवा दो बजे कोर्ट में दाखिल करने का आदेश दिया है. इसके अलावा उत्तर पूर्वी दिल्ली जिले के सभी प्राइवेट और सरकारी स्कूल नहीं खुलेंगे. बता दें कि दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को ट्वीट कर जानकारी दी थी कि बुधवार (26 फरवरी) को उत्तर पूर्वी दिल्ली जिले के सभी स्कूल बंद रहेंगे.

इसके अलावा, शिक्षा मंत्री ने यह भी बताया था कि सभी स्कूलों की गृह परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं. मनीष सिसोदिया ने एक बार फिर सीबीएसई से भी बोर्ड परीक्षाएं स्थगित करने की अपील की थी. इससे पहले सोमवार (24 फरवरी) को भी मनीष सिसोदिया ने इस इलाके के स्कूलों के बंद रखने की घोषणा की थी.


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें