AC को लेकर सरकार ने जारी की एडवायजरी, जानें कितना होना चाहिए आपके रूम का तापमान

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते प्रकोप और चिलचिलाती गर्मी को देखते हुए सरकार ने रिहायशी इलाकों, अस्पतालों और कार्यालयों में एयर कंडीशनरों (AC) के इस्तेमाल को लेकर एक एडवायजरी जारी की है. दरअसल, एसी एक कमरे के बीच की हवा को घुमा कर (री-सर्कुलेट) दोबारा ठंडा करने के नियम पर काम करता है. देश की मौजूदा स्थिति में लोगों के मन में शंकाएं थीं कि स्थानों जैसे कि मॉल, कार्यालय, अस्पताल आदि में इसके प्रयोग से बीमारी फैलने का खतरा बढ़ सकता है.

एडवायजरी के मुताबिक कमरे का तापमान 24 डिग्री सेल्सियस से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच होना चाहिए. जबकि आद्रता (Humidity) का स्तर 40 से 70 प्रतिशत के बीच होना चाहिए. फिलटरों को साफ रखने के लिए समय-समय पर एसी की मरम्मत करवाना जरूरी है. इसी के साथ कमरों में एग्जॉस्ट फैन का होना भी जरूरी है जिससे ताजी हवा आती रहे.

एडवायजरी में कहा गया है कि रिहायशी स्थानों पर कमरों में एसी की ठंडी हवा के साथ-साथ थोड़ी सी खिड़की खुली रख कर और एग्जास्ट फैन के द्वारा बाहरी हवा को भी आने देना चाहिए, जिससे कुदरती फिलट्रेशन के द्वारा निकासी हो सके.

इंडियन सोसाइटी ऑफ हिटिंग रेफ्रिजेटिंग एंड एयर कंडिशन इंजीनियर्स (आईएसएचआरएई) का कहना है कि आद्र जलवायु में तापमान 24 डिग्री सेल्सियस तक होना चाहिए जबकि सूखे मौसम में आर्द्रता को दूर किया जाना चाहिए. तापमान 30 डिग्री सेल्सियस होना चाहिए. उन्होंने कहा है कि हवा की गति को बनाए रखने के लिए पंखे का इस्तेमाल किया जाना चाहिए.

केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) ने देशभर में केंद्र सरकार की इमारतों की देखभाल करने की जिम्मेदारी संभाल रहे अधिकारियों को कोविड-19 महामारी के मद्देनजर एसी को लेकर जारी एडवायजरी का पालन करने को कहा है. उल्लेखनीय है कि सीपीडब्ल्यूडी केंद्र सरकार की प्रमुख निर्माण एजेंसी है.


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें