अगस्त तक मेट्रो का काम शुरू करने की कवायद

भोपाल मेट्रो के लिए इसी माह जारी होगा टेंडर
सच प्रतिनिधि ॥ भोपाल
भोपाल मेट्रो रेल परियोजना के लिए मप्र मेट्रो रेल कार्पोरेशन लिमिटेड इसी माह टेंडर जारी करने वाला है। इस संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने नगरीय प्रशासन विभाग के प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल से बात की तो उन्होंने बताया कि इस माह टेंडर जारी हो जाएंगे तो अगस्त 2018 तक भोपाल में मेट्रो का काम शुरू हो सकता है।
भोपाल और इंदौर मेट्रो ट्रेन के लिए मप्र मेट्रो कॉरपोरेशन मई में टेंडर जारी कर सकता है। फिलहाल भोपाल-इंदौर मेट्रो ट्रेन प्रोजेक्ट का प्रस्ताव केंद्र सरकार की प्रोजेक्ट इंप्लीमेंटेशन कमेटी के पास लंबित है। इस प्रोजेक्ट को कमेटी की मंजूरी मिलते ही टेंडर जारी होंगे। सरकार का प्रयास है कि विधानसभा चुनाव से पहले मेट्रो को लेकर भोपाल में काम शुरू हो जाए। भोपाल मेट्रो के लिए राज्य सरकार यूरोपियन बैंक और इंदौर मेट्रो के लिए एशियन डेवलपमेंट बैंक से लोन लेने जा रही है। दोनों प्रोजेक्ट के लिए बैंक ने लोन देने की मंजूरी दे दी है। भोपाल मेट्रो का काम दो चरणों में पूरा होगा।
मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के कॉरिडोर निर्माण और शुरुआती खर्चों के लिए राज्य सरकार ने 200 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं। दोनों प्रोजेक्टों के लिए तीन बैंकों से 6701.97 करोड़ रुपए लोन लिया जा रहा है। भोपाल के लिए यूरोपियन इन्वेस्टमेंट बैंक (ईआईबी)से 3501.97 करोड़ व इंदौर के लिए एशियन डेवलपमेंट (एडीबी) बैंक व न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी) से 3200 करोड़ रुपए दीर्घ अवधि के लिए लोन लेने की तैयारी है। ट्रैक की कुल लंबाई लगभग 28 किमी होगी। पहला कॉरिडोर करोंद से एम्स तक कुल 15 किमी का और दूसरा भदभदा चौराहे से रत्नागिरी तिराहे तक लगभग 1 किमी का होगा। इस प्रोजेक्ट पर 6 हजार 962 करोड़ रुपए खर्च होंगे। स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत आईटीएमएस के शुभारंभ मौके पर श्री गौर ने विभाग के प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल से बात की थी। पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर की मांग सरकार ने दिल्ली मेट्रो रेल निगम के पूर्व निदेशक ईश्रीधरन को भोपाल मेट्रो के लिए विशेष सलाहकार बनाने का प्रस्ताव किया था, जिसके बाद श्री गौर को उम्मीद जागी है कि ईश्रीधरन प्रदेश सरकार के प्रस्ताव को स्वीकार करेंगे और भोपाल मेट्रो के काम की निगरानी करेंगे। पिछले विधानसभा सत्र में श्री गौर ने बताया कि सरकार ने ईआईबी से लोन के लिए भारत सरकार को प्रस्ताव भेज दिया है। उनका कहना है कि बिना केंद्र सरकार की मंजूरी के लिए कोई भी सरकार विदेशी बैंक से लोन नहीं ले सकती।
मेट्रो रेल कंपनी के आफिस के लिए टेंडर जारी
मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड कंपनी का प्रशासनिक ढांचा तैयार कर प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट (पीएमयू) और प्रोजेक्ट इम्पीमेंटेशन यूनिट (पीआईयू) का गठन कर लिया गया है। पीएमयू के लिए 19 में से 7 अधिकारियों की प्रतिनियुक्ति पर भर्ती भी कर ली गई है। इसे भी जल्द अमलीजामा पहना दिया जाएगा। दोनों शहरों के प्रथम चरण के प्रोजेक्ट 2022 में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड के दफ्तर के लिए भवन का भी टेंडर जारी कर दिया गया है।
भोपाल मेट्रो की लागत
भोपाल मेट्रो की लागत 6962.92करोड़ रुपए है, इसमें 1167.33 केंद्र सरकार देगी तो 1853.62 करोड़ प्रदेश सरकार देगी। 440 करोड़ रुपए पीपीपी अंश होगा और 3501.97 करोड़ यूरोपियन इन्वेस्टमेंट बैंक से लोन लिया जाएगा।
18 को हो सकता है भूमिपूजन
पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने कहा कि स्मार्ट सिटी के आफिस में प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल से बात हुई तो उन्होंने बताया कि 18 मई को मेट्रो के लिए पूजन कराया जाएगा। टेंडर भी इसी माह होंगे तो अगस्त 2018 तक काम शुरू हो जाने की बात कही है। मेरी मंशा और इच्छा मेट्रो का काम शुरू करवाना है। कुछ तो हो, कही से तो शुरूआत हो।


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें