जेटली ने की एमपी की सड़कों की तारीफ तो ट्रोल हुए शिवराज

किसान गोलीकांड की बरसी पर मंदसौर में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के मेगा शो ने भाजपा को इतना चिंतित किया कि भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता से लेकर अध्यक्ष और सरकार के मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक इसके औचित्य का सवाल उठाते रहे। इन सबके बीच अपना किडनी ट्रांसप्लांट करा कर घर में आराम कर रहे केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी राहुल गांधी के ज्ञान पर सवाल उठा दिए। ट्वीटर पर जेटली ने सवाल किया कि राहुल गांधी ने जिन विषयों पर बात की है उनके बारे में वे कितना जानते हैं? इसके साथ ही उन्होंने साल 2003 में तत्कालीन दिग्विजय सिंह सरकार के दौरान की मध्यप्रदेश की गड्ढों भरी सड़कों की याद दिलाते हुए ग्राम सड़क योजना के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की तारीफ की। जेटली की टिप्पणियों ने एक बार फिर सड़कों को लेकर शिवराज सिंह चौहान को ट्रोल ब्रिगेड के निशाने पर ला दिया। मध्यप्रदेश की सड़कों को वाशिंगटन से बेहतर बताने वाला मुख्यमंत्री का बयान और पन्ना जिले में थोड़े से पानी से बचने के लिए पुलिसकर्मियों के द्वारा हाथ का झूला बना कर उसमें बिठा कर मुख्यमंत्री को पार कराने की तस्वीरें फिर वायरल हो गईं। मध्यप्रदेश के ही नहीं दूसरे राज्यों के लोगों ने भी जमकर ट्रोल किया। सिंगरौली के एक व्यक्ति ने लिखा है कि ‘ये मामा जी तो सिर्फ मामू बनाने आते हैं, सिंगरौली वालों को सिंगापुर बनाने का सपना दिखा के लूट लिया, वहां माइंस और प्लांट्स में स्थानीय लोगों को नौकरी नहीं मिली, ऊपर से प्रदूषण का उपहार मिल गया। सड़क तो एनएच 75-ई सन 2003 से बन ही रही हैÓ। राहुल की सभा को लेकर शिवराज द्वारा टीकमगढ़ में दिए गए घडिय़ाली आंसू संबंधी बयान पर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ भी ट्वीटर पर प्रतिक्रिया देने से खुद को नहीं रोक सके। कमलनाथ ने कहा है- शिवराज जी ना हम घडिय़ाली आंसू बहाने और ना वोट की फसल काटने मंदसौर गए थे… हम तो वहां किसानों के आंसू पोंछने गए थे, जो आपकी सरकार ने दिए हैं और आपके द्वारा पिछले 14 वर्ष से बोई जा रही झूठ की फसल काटने गए थे। कमलनाथ ने दूसरे ट्वीट में कहा है- शिवराज सरकार के तमाम अवरोधों व खूनखराबा की आशंका के झूठ को धता बता कर बुधवार को मंदसौर की पीपलियामंडी में ‘किसान समृद्धि संकल्प सभाÓ को ऐतिहासिक बनाने के लिए सभी किसान भाइयों का और कांग्रेसजनों का आभार। कमलनाथ को जवाब दिया है भाजपा नेता और नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष डॉ हितेष वाजपेयी ने। उन्होंने कमेंट किया है- चलो आपने (कमलनाथ) स्वीकार किया कि आप वहां ‘घडिय़ाली आंसू बहानेÓ गए थे क्योंकि आप कभी मुलताई नहीं गए न! ये भी आपने ठीक स्वीकार किया कि आप ‘वोटों की फसलÓÓ काटने मंदसौर गए थे क्योंकि जब घटना हुई थी तबसे अब आज चुनाव के वक्त ही आप वहां गए, पहले कभी नहीं गए!


facebook - जनसम्पर्क
facebook - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
twitter - जनसम्पर्क
twitter - जनसम्पर्क - संयुक्त संचालक
जिला प्रशासन इंदौर और शासन की दैनंदिन गतिविधियों और अपडेट के लिए फ़ॉलो करें